swift system kya hai, कैसे काम करता करता और इसकी सुरुआत

Swift system अगर आप न्यूज़ पढ़ते या देखते है तो आपने ये नाम जरूर सुना होगा और आपके भी मन मे ये सवाल कही न कही खरक रही होगी कि आखिर ये  Swift system kya hai? और Swift system कैसे काम करता है ? और स्विफ्ट सिस्टम का इस्तेमाल क्यों किया जाता है? तो आज हम इस के बारे में जानने वाले  है तो इसलिये इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े ।

swift system क्या है- what is swift system 

Swift system kya hai
संस्था का नामस्विफ्ट(Swift)
स्थापना3 मई 1973
मुख्यालयला हल्पे (बेल्जियम
स्विफ्ट कर्मचारियों की संख्या3000
वेबसाइटwww .swift .com
स्विफ्ट CEOJavier Perez-Tasso
ProductsFinancial telecommunication

स्विफ्ट का मतलब होती है सोसाइटी फॉर वर्ल्डवाइड इंटरबैंक फाइनेंशियल टेलीकम्युनिकेशन  यह इंटरनेशनल स्तर पर बैंकों के बीच कम्युनिकेट करने का एक जरिया है की बैंक आपस मे किस तरह से बातचीत करते है किस तरह से ट्राजेक्शनों को मैनेज करते है ये के नेटवर्क और फ्रेमवर्क प्रदान करते है । स्विफ्ट सिस्टम से लगभग200 से ज्यादा देश जुड़े हुए है ।आपके मन मे ये सवाल आ रहे होंगे कि इसकी सुरुवात कैसे हुईं ।

Swift system की शुरुआत कैसे हुई

वर्ल्ड वॉर टू के बाद यूनाइटेड स्टेट एक ऐसा सिस्टम अपने लिए ढूंढ रहा था जोfast और secure हो ।उस समय पैसे ट्रांसफर के लिए एक बहुत प्रचलित सिस्टम चला करता था जिसे टेलेक्स(Telex) कहते थे ।

टैलेक्स ना सिर्फ पैसे ट्रांसफर करता था बल्कि यह एक कम्युनिकेट यानी बातचीत करने का भी एक साधन था।इस टेलेक्स मशीन के जरिये एक कोड या कम्युनिकेट किया जाता और सामने वाले को बताता था  कि आपको  कितने पैसे किसको टांसफर करने है। ये सबसे पहला लोंग डिस्टेंस डाटा ट्रांसमिशन तरीका(method) था ।

लेकिन ये ज्यादा समय तक नही चला इसका मुख्य कारण कारण था कि ये बहुत स्लो और  अन सिक्योर था। जिसके कारण कई बार ऐसा भी होता था कि कोड गलत आ जाते थे और पैसा दूसरे जगह ट्रांसफर हो जाता था इससे लोगों और बैंकों  को काफी दिक्कत होती है।

वर्ल्ड वॉर टू के समाप्त के होने के बाद 1973 में दुनिया के 239 देश ने एक साथ मिल कर एक नया पेमें टेक्नोलॉजी बनाया जिसेswift(Society for Worldwide Interbank Financial Telecommunications )नाम दिया गया।

1977 स्विफ्ट मैसेंजिंग की शुरुआत हुई स्विफ्ट के लाइव होने तक  22देशो के 518 संस्था इनके मैसेंजिंग से  जुड़े थे। स्विफ्ट एक मैसेंजिंग नेटवर्क है कई लोगों को लगता है कि इसमें पैसे आते हो जाते हैं लेकिन ऐसा नहीं है उसमें एक कोड आता जिसके जरिये बैंक आपस मे सेटेलमेंट कर लेते है ।

स्विफ्ट का मुख्यालय (headquarters of swift) ला हल्पे है ।जो ब्रुसेल्स की राजधानी जो  बेल्जियम देश मे स्थित है तो हम कह सखते है की स्विफ्ट का मुख्यालय बेल्जियम देश मे स्थित है।

वर्तमान में स्विफ्ट के  साथ 200 से अधिक देश और 11,000 सेअधिक  बैंक ,सिक्योरिटी और और ऑर्गनाइजेशन जुड़े हुए है

इससे जुड़े सभी संस्थानों के पास एक यूनिक कोड होता है जिसे swift code  या Bank identification code (BIC) भी कहते है । यह एक यूनिक कोड होता है जो  हर बैंक और  ऑर्गनाइजेशन का कोड अलग अलग होता है।

इसमे 4अंको का Bank Code , 2अंको का country code,2अंको का  location code और 4अंको का Branch Code  होता है।अगर देखा जाय तो जिस तरह से IFSC Code होता है बिलकुल वैसे ही swift code होता है।

 Swift oversight forum की स्थापना 2012 में की गई थी।जिसे G10  के अलावा भी अन्य देशों को जोड़ा गया था तो निम्न है ।

  • India
  • ऑस्ट्रेलिया
  • रशिया
  • साउथ कोरिया
  • सिंगापुर
  • साउथ अफ्रीका
  • चाइना
  • सऊदी अरब

अन्य पढ़े:-

स्विफ्ट की निगरानी G10 देशो के बैंक सेंट्रल बैंक  और यूरोपियन सेंट्रल बैंक मिल कर इसकी  सुरक्षा करते है।यह वित्तीय संस्थानों को सॉफ्टवेयर और सेवाएं भी बेचता है,. आये आगे जानते है कि ये स्विफ्ट कैसे काम करता है?

स्विफ्ट कैसे काम करता है

Swift system से सभी बैंको को एक अंतर्राष्ट्रीय को दिया जाता है जिसे swift code या Bank identification code (BIC) भी कहते हैबैंक और  ऑर्गनाइजेशन का कोड अलग अलग होता है। जब कोई व्यक्ति एक भारतीय बैंक से पैसा किसी दूसरे अमेरिकीबैंक में भेजना चाहता है तो यहाँ पर swift system कर करता है इसमे एक बैंक दूसरे बैंक को एक swift Messege करता है जब दूसरा बैंक इस कोड इस कोड को प्राप्त कर एक्सेप्ट कर लेता है तो पैसा इस उस सेन्डर के पास चला जाता है ।तो इस तरह से swift system काम करता है ।

स्विफ्ट सि ही इस्तेमाल क्यों करे

तो आपको बता दे की swift सिस्टम के जरिए आप अपने पैसे को एक देश से दूसरे देश मे बड़ी तेजी और सुरक्षा के साथ अपने पैसे को बहुत जल्द दूसरे देश में पहुचा सखते हैं ।  इस कंपनी से लगभसग200 देश जुड़े हुए है । इसे कई बैंक मिल कर कंट्रोल करते है इनमे कोई गलती की गुंजाइश नही होती है ।ये एक दम सेफ और सिक्योर है ।

स्विफ्ट सिस्टम का इस्तेमाल किन जगहों किया जाता है 

स्विफ्ट सिस्टम का इस्तेमाल बेसिकली एक देश से दूसरे देश मे पैसा पैसा का आयात निर्यात करने के लिये या अंतरराष्ट्रीय ट्रांजेक्शन करने के लिए किया जाता है ।जो कि बहुत सिक्योर औऱ फ़ास्ट माना जाता हैं और इसमें किसी तरह की गरबरी की भी समस्या भी नही होती है । 

SWIFT System क्या क्या सर्विस देता है

आज के दौर में swift system का इस्तेमाल हर जगह हो रहा है ।मैं उनमें से कुछ के बारे में आप नीचे बताया है जहाँ swift system का इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है ।

  • Business Intelligence में
  • Compliance Services में
  • Messaging, Connectivity, and Software Solutions—में
  • Applications में

FAQ-swift से जुड़े कुछ सवाल

Q.1 क्या swift system सेफ है ?

जिस है ये पूरी तरह से सेफ है इसे कैसे बैंक मिल कर कंट्रोल करते है।

Q.2 swift system और swift code में क्या अंतर है?

swift एक कंपनी है ये जिस तकनीक का इस्तेमाल करती है उसे हम swift system कहते है ।जबकी swift code एक प्रकार का यूनिक कोड होता है जिसे swift कंपनी जारी करती है। जिसका उपयोग पैसे ट्रांफ़र करने के लिए किया जाता है।

Q.3 swift का मुख्यालय कहाँ है?

इसका मुख्यालय बेल्जियम में है ।

conclusion

swift system kya hai आपको पोस्ट कैसी लगी अपनी राय कमेंट बॉक्स बॉक्स में जरूर बताएं ।अगर आपके मन में कोई सवाल हो तो जरूर पूछें इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमारे ब्लॉक पर विजिट करते रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *